शुक्रवार, 3 जुलाई 2015

और क्या है

घायल कौम की जिंदगी में अपाहिज संभावनाओं का दौर क्या है
सियासत में शिकस्त मुल्क की यह कथा यह व्यथा और क्या है