इस समय, आराम पसंद लोग


एक खतरनाक नदी की तरह
बहस बलखा रही है

एक बड़ी किताब की तरह
साजिश की भूमिका में
मुल्क की ताकत खप रही है

भर जाने के बाद पेट का एहसास जाता रहता है
और आराम पहली जरूरत बनकर आता है

इस समय, आराम पसंद लोग
होशियारी से आराम हराम है का
नारा बुलंद करते हुए
पैर को दिमाग से काटने का
बौद्धिक व्यायाम कर रहे हैं कि
जो पैर सोच नहीं सकता उसे सोचने का हक नहीं है
जो दिमाग चल नहीं सकता उसे सोचने का हक नहीं है
एक टिप्पणी भेजें