नया लीड

नया लीड

आज फिर
जिंदगी को
बदलने के तरीके
उठ रहे हैं

आज फिर
मौसम
नंगा हो रहा है

आज फिर
मुल्क शोक पुस्तिका में
ढल रहा है

इसके पहले कि
अखबार में
कोई नया लीड आये
मैं जल्दी-से-जल्दी
किलकते हुए
बच्चों को चूम लेना चाहता हूँ।


एक टिप्पणी भेजें