बुधवार, 11 दिसंबर 2013

नया लीड

नया लीड

आज फिर
जिंदगी को
बदलने के तरीके
उठ रहे हैं

आज फिर
मौसम
नंगा हो रहा है

आज फिर
मुल्क शोक पुस्तिका में
ढल रहा है

इसके पहले कि
अखबार में
कोई नया लीड आये
मैं जल्दी-से-जल्दी
किलकते हुए
बच्चों को चूम लेना चाहता हूँ।


एक टिप्पणी भेजें