सोमवार, 20 जून 2016

सो नहीं लिखी जा सकी हमारे वक्त में कविता

सो, नहीं लिखी जा सकी
________________
घटनाओं की कोई कमी नहीं
शब्द भी बेशुमार थे
सहानुभूति दयानुभूति भी कम नहीं
हँसी ठिठोली उच्छ्वास तो अकूत

बस, बात इतनी - सी कि
दो बूँद आँसू का इंतजार पूरा न हुआ
सो, नहीं लिखी जा सकी
हमारे वक्त में कविता

संभव नहीं हो पाया
कविता में वक्त का लिखना

कविता में लिखे जाने से
वक्त का इनकार हादसा है
सो, नहीं लिखी जा सकी
हमारे वक्त में कविता

अफसोस कि
मेरी हुनरमंदी नाकाफी ठहरी
और नहीं लिखी जा सकी कविता

एक टिप्पणी भेजें