इस नजवाज समय में!

इस नजवाज समय में!
----
कविता रोटी नहीं देती। रोटी को बाँट कर खाने की तमीज देती है। रोटी को झपटने का उकसावा कोई और ताकत देती है। तमीज और  झपटमारी में टकराव होता रहता है। कविता इस झपटमारी उकसावा के विरुद्ध आत्म-संशय के व्यूह से बाहर निकलने का धीरज देती है। आजकल उकसावा बहुत है और आत्म-संशय के व्यूह से बाहर निकलने की कोशिश का धीरज बहुत कम। एक गुलाबी अंधेरा तारी है जो आत्म-संशय की रात को मनोरम बनाती है। इस गुलाबी अंधेरा के पार न सूरज निकल पा रहा न चाँद।  दीया है तो सही, जिस पर भरोसा किया जा सकता है, संशय की रात में भी, अगर वह हमारी ही साँस की निकलती हवा से बुझ न जाये। ओह! ऐसा है यह नजवाज समय है!

3 टिप्‍पणियां:

yashoda Agrawal ने कहा…

आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज शनिवार 13 जुलाई 2019 को साझा की गई है......... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

अनीता सैनी ने कहा…

वाह !बेहतरीन 👌
सादर

Anuradha chauhan ने कहा…

बहुत सुंदर