गुरुवार, 17 नवंबर 2016

कोई नहीं

गजब कि जहालत मजे में है और जाहिल कोई नहीं
मुर्दा अरमान तेरे गलियारे में और कातिल कोई नहीं

एक टिप्पणी भेजें