दिल करे भी तो क्या

कुछ हुस्न का गुनाह कुछ इश्क की शरारत, दिल करे भी तो क्या
दिल तो है दिल आखिर, ऐतबार न करे! और ये करे भी तो क्या

एक टिप्पणी भेजें