औजार भी हथियार हुआ करता है

ये किसके दम से तेरा कारोबार चला करता है
सियासत में औजार भी हथियार हुआ करता है

मुफलिसी का मसीहा तो बस वही हुआ करता है
गर्दिश में खुद का जिस्म भी बोझ हुआ करता है

सरहद पर सवाल कि कैसे ये हाल हुआ करता है
लड़ते हैं सही जो दिल उनका भी हुआ करता है

एक टिप्पणी भेजें