रविवार, 30 अक्तूबर 2016

बात और है

हूँ शोर में शामिल मगर शराबे की बात और है
दौर-ए-जश्न में शामिल जनाजों की बात है

एक टिप्पणी भेजें