गुरुवार, 20 फ़रवरी 2014

रोशनी की नदी का सोहर



रोशनी की नदी का सोहर
एक छोटी-सी
डोंगी
जब टहलती है
नदी की धार पर

तब नदी के
भीतर से
फूटते हुए
आधे सूरज की उजास
लहलहाती हुई
सरसराते धन खेत की तरह
गीत गाती है
एक नदी
रोशनी की
बहनी शुरू होती है
जब धरती
धेनुआर की तरह
पिन्हाती है

रोशनी की नदी
सोहर गाती है


एक टिप्पणी भेजें