रविवार, 7 फ़रवरी 2016

काँटों से नहीं, बटन होल से डर

काँटों से नहीं गुलों को तो शिकायत किसी और से ही है
सचमुच बेखबर कि वह गुलों का आखिर क्या करता है
सुना है उनका
कोई भाई नहीं था
और भतीजा भतीजी
पूरा हिंदुस्तान
सुना है
सारे गुलाब
बटन होल में घुसेड़ दिये गये थे
किसने सुना?
गुलाब कह रहा है
काँटों से नहीं
बटन होल से
डर लगता रहा है
एक टिप्पणी भेजें