रविवार, 18 अक्तूबर 2015

इश्क का मौसम

मौसम
धरती और सूरज के बीच का संवाद है
धरती और सूरज के बीच
संवाद का तेवर बदल रहा है
मौसम बदल रहा है
मैं बदल रहा हूँ
मैं मौसम हूँ
मौसम इश्क का
मैं बदल रहा हूँ
इश्क का मौसम बदल रहा है

एक टिप्पणी भेजें