इश्क का मौसम

मौसम
धरती और सूरज के बीच का संवाद है
धरती और सूरज के बीच
संवाद का तेवर बदल रहा है
मौसम बदल रहा है
मैं बदल रहा हूँ
मैं मौसम हूँ
मौसम इश्क का
मैं बदल रहा हूँ
इश्क का मौसम बदल रहा है

एक टिप्पणी भेजें