देश भक्ति है कि महज फुटानी

देश भक्ति है कि महज फुटानी है
▬▬▬
जी हाँ, मछली की आँख को ठीक-ठीक पता है
जिस में उसको छोड़ा गया तेल है कि पानी है

मुस्कान में नाचती आँख को ठीक-ठीक पता है
अदा तेरी कोई शरारत है या महज नादानी है

अपठित किताब के पन्नों को ठीक-ठीक पता है
इस आँख में उबलती तलाश कितनी रुहानी है

पूनम रात की खामोशी को ठीक-ठीक पता है
पोर-पोर में दहाड़ता दर्द कितना जिस्मानी है

लचकते फूलों की खुशबू को ठीक-ठीक पता है
ये उड़ा ले जाती है हवा जो कितनी तूफानी है

भूख से मरियल जिंदगी को ठीक-ठीक पता है
दहाड़ती हुई देश भक्ति है कि महज फुटानी है

जी हाँ, मछली की आँख को ठीक-ठीक पता है
जिस में उसको छोड़ा गया तेल है कि पानी है

एक टिप्पणी भेजें