मंगलवार, 10 जून 2014

हे पिता, मैं नया



हे पिता, मैं नया

▬▬▬▬▬

हे पिता तुमने तो कहा था
मंत्र में बड़ी शक्ति होती है
मंत्र बल से पत्थरों में
प्राण का स्पंद होता है
मंत्र बल से पत्थरों को
मिलती है प्रतिष्ठा

हे पिता उसने तो कहा था
सौ बार दुहराने से
झूठ सच हो जाता है

हे पिता मैं नया मंत्र गढ़ता हूँ
पत्थरों में प्राण के स्पंद के लिए नहीं
पथरायी आँखों में जीवन के उल्लास के लिए

हे पिता मैं नया मंत्र पढ़ता हूँ
पत्थरों की प्रतिष्ठा के लिए नहीं
पथरायी जिंदगी में खुशी के नये इतिहास के लिए

हे पिता मैं नया मंत्र गढ़ता हूँ
हे पिता मैं नया मंत्र पढ़ता हूँ
एक टिप्पणी भेजें