गुरुवार, 31 जुलाई 2014

धारा के विपरीत

प्रफुल्ल कोलख्यान Prafulla Kolkhyan
धारा के विपरीत

नदी पर
तैरनेवाली नाव
धारा के
विपरीत तो चल सकती है
मगर मोड़ नहीं सकती है
नदी की धारा

नाविक
साबित करने में
अक्सर कामयाब हो जाते हैं कि
उन्हीं की मोहताज
है नदी की धारा

सच-सच
बताइये
संसद नहीं लगती है

किसी बड़े जहाज की तरह
एक टिप्पणी भेजें