डूबना भी नहीं आता

प्रफुल्ल कोलख्यान Prafulla Kolkhyan

डूबना भी नहीं आता
++++++++++++

पानी बहुत ही गहरा है
उसमें उतरने की तमन्ना


उसने पूछा▬▬
तैरना आता है
मैंने कहा▬
नहीं


उसने कहा ▬
डूब जाओगे


मैंने कहा▬
डूबना भी नहीं आता
और पानी में उतर पड़ा


पसंदपसंद · · साझा करें


Tushar Krishna Singh Shrinet, अजय गुप्ता, Vijay Mishra Vijay और 54 अन्य को यह पसंद है.


Kumar Kuldip सुंदर !
28 जुलाई पर 06:56 पूर्वाह्न · पसंद


Uday Raj Singh Bahut badhiyaa ! Yah naadaan na aanaa jaane kitane rahasyodghaatan karataa hai.Doob kar door kee kaudee laataa hai.
28 जुलाई पर 07:02 पूर्वाह्न · पसंद · 1


Sulakshana Datta
28 जुलाई पर 07:08 पूर्वाह्न · पसंद


धर्म पाण्डेय बहुत खूब।
28 जुलाई पर 07:12 पूर्वाह्न · पसंद


Haridev MP डूबने की बात मत करों सर । साहित्य आपकी प्रकृति के अनुकूल युद्धक्षेत्र है । उसी में से हम रसियों के लिए कुछ नवरस का सृजन करो । हमें डूबने दो उस ज्ञानगंगा में ।
28 जुलाई पर 07:37 पूर्वाह्न · पसंद · 1


Noor Mohammad Noor Mutta kodi kavadi hda....
28 जुलाई पर 09:16 पूर्वाह्न · पसंद


K C Babbar Babbar मेरे साकी ने मुझको दे दिया है जाम कुछ ऐसा ,जो छोड़ा भी नही जाता ऊठाया भी नही जाता
28 जुलाई पर 09:39 पूर्वाह्न · पसंद · 2


Binay Pathak क्या बात है
28 जुलाई पर 10:16 अपराह्न · नापसंद · 1


Javed Usmani बेजोड़ ,
29 जुलाई पर 03:53 पूर्वाह्न · नापसंद · 1


Harish Sharma आप तो ईद का चाँद हो गये थे ।
29 जुलाई पर 12:38 अपराह्न · नापसंद · 1
एक टिप्पणी भेजें